Recent Events

Governing Body and Executive Board Meeting : 25 Feb 2020 , Mumbai

युवा पीढ़ी को कला और संस्कृति से जोड़ें, जनजातीय और विलुप्त कलाओं को प्रोत्साहन दे: राज्यपाल मिश्र

मुंबई, 25 फरवरी। राज्यपाल कलराज मिश्र ने कहा कि पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र अपने कार्यक्रमों में युवाओं की भागीदारी बढ़ावे तथा उन्हें कला और संस्कृति से जोड़ने के साथ ही जनजातीय कलाओं व विलुप्त प्रायः कलाओं के प्रोत्साहन का कार्य करे।
राज्यपाल श्री मिश्र ने यह सुझाव मंगलवार को पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र की गवर्निंग बाॅडी तथा एक्जीक्यूटिव बोर्ड की मुंबई में आयोजित संयुक्त बैठक में दिया। राज्यपाल ने इस अवसर पर कहा कि केन्द्र अपने आयोजनों से युवा पीढ़ी को जोड़ना आज सबसे महत्वपूर्ण है। केन्द्र के आयोजनों में युवाआंें की सहभागिता ज्यादा से ज्यादा होने के साथ-साथ उनके प्रोत्साहन पर विशेष बल दिया जाये। इसके लिये केन्द्र को एक चरणबद्ध योजना बना कर नवीन कला प्रतिभाओं तथा उनकी कलाओं की तलाश कर उन्हें विभिन्न माध्यमों से प्रोत्साहन का कार्य करना चाहिये तथा उनकी प्रतिभा को यथोचित माध्यम से प्रोत्साहित करने के प्रयास किये जायें।
इस अवसर पर उन्होंने केन्द्र के कार्यक्रमों और योजनाओं में जनजातियों की कलाओं की ओर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता जतलाते हुए कहा कि जनजाीय संस्कृति हमारी अमूल्य विरासत है तथा आधुनिकता की होड़ में उनकी कलाएं विलुप्त न हो जाये। केन्द्र ऐसी कलाओें के प्रोत्साहन हेतु विशेष प्रयास करे। राज्यपाल ने इसके अलावा उत्तर पूर्व राज्यों तथा जम्मू व कश्मीर, लद्दाख की कलाओं को केन्द्र के कार्यक्रमों में शामिल करने का सुझाव दिया।
राज्यपाल श्री मिश्र ने बैठक में ही ‘‘एक भारत श्रेष्ठ भारत‘‘ की भावना का प्रसार जन-जन तक करने का आह्वान किया। उन्होंने केन्द्र से राजस्थान पर्यटन विभाग से किये गये एम ओ यू की तर्ज पर अन्य सदस्य राज्यों के पर्यटन विभागों से भी कला और संस्कृति के प्रोत्साहन हेतु प्रयास करने का सुझाव दिया। बैठक में केन्द्र के प्रभारी निदेशक सुधांशु सिंह ने केन्द्र के वर्ष 2018-2019 के कार्यक्रमों का ब्यौरा प्रस्तुत करने के साथ केन्द्र द्वारा वर्ष 2019-2020 की वार्षिक योजना व कार्यक्रमों का विवरण प्रस्तुत किया।
बैठक में प्रभारी निदेशक सुधांशु सिंह द्वारा केन्द्र के वर्ष 2018-19 का अंकेक्षित लेखा प्रतिवेदन प्रस्तुत किया गया। बैठक में इसके अलावा अन्य प्रशासनिक प्रकरणों पर विचार विनिमय किया गया। बैठक में गोवा के कला एवं संस्कृति मंत्री श्री गोविन्द गौड़े, भारत सरकार के संस्कृति मंत्रालय की संयुक्त सचिव श्रीमती अमिता प्रसाद सरभाई, राजस्थान की कला एवं संस्कृति विभाग की सचिव श्रीमती श्रेया गुहा, महाराष्ट्र के सांस्कृतिक कार्य विभाग के सचिव श्री संजय मुखर्जी, ललित कला अकादमी नई दिल्ली, गोवा के कला एवं संस्कृति निदेशक शगुन वेलिप के अध्यक्ष डाॅ. उत्तम पचारणे, सचिव राज्यपाल राजस्थान श्री सुबीर कुमार, विशेषाधिकारी श्री गोविन्द जायस्वाल, आदि उपस्थित थे।

राज्यपाल द्वारा ‘‘लोक और जनजातीय वाद्यों’’ पर पुस्तक का लोकार्पण
मुंबई 25 फरवरी। राजस्थान के राज्यपाल श्री कलराज मिश्र ने पश्चिम क्षेत्र सांस्कृतिक केन्द्र द्वारा लोक और जनजातीय वाद्य यंत्रों पर प्रकाशित पुस्त ‘‘फोक एण्ड ट्राइबल इन्स्ट्रूमेन्ट्स’’ का लोकार्पण किया गया। केन्द्र की प्रलेखन योजना के अंतर्गत प्रकाशित इस पुस्तक में केन्द्र द्वारा उदश्पुर के शिल्पग्राम में आयोजित कार्यशाला में आमंत्रित केन्द्र के सदस्य राज्यों के प्रचलित, दुर्लभ और विलुप्त वाद्य यंत्रों का सचित्र संक्षिप्त विवरण प्रस्तुत किया गया है।